LATEST POSTS

Saturday, June 13, 2020

What is User Interface in Hindi, यूजर इंटरफ़ेस (UI) क्या है?, User Interface for Desktop and Laptops

जब आप किसी मशीन को चलाते हैं चाहे कंप्यूटर हो, मोबाइल फोन हो या आपके घर की वॉशिंग मशीन  हो तो आपने देखा होगा वहां पर आपको कुछ निर्देश (User Interface) दिखाई देते हैं यह निर्देश फोटो के रूप में भी हो सकते हैं या किसी बटन के रूप में भी हो सकते हैं जब आप इन निर्देशों को माउस, की-बोर्ड,  टच स्क्रीन या अपने हाथों का उपयोग करके मशीन को या कंप्यूटर को कमांड देते हैं तो आपके और मशीन के बीच में संचार स्थापित होता है यानी अगर सीधे शब्दों में कहा जाए तो आपकी और मशीन की बातचीत होती है इस बातचीत को स्थापित करने में जो माध्यम होता है (What is User Interface) वही यूजर इंटरफेस कहलाता है यूज़र इंटरफ़ेस को Human Machine Interface (HMI) भी कहा जाता है। 
user-interface-for-desktop-and-laptop


आज के समय में कंप्यूटर और मोबाइल फोन को चलाने के लिए जो User Interface प्रदान किया जाता है उस में मुख्यत है आपका ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Operating Systems) है जो आपको ग्राफिकल यूजर इंटरफेस (GUI) प्रदान करता है जहां पर आपको Pictures और Icons दिखाई देते हैं जिनके माध्यम से आप की-बोर्ड और माउस की सहायता से अपने कंप्यूटर में और टच स्क्रीन की सहायता से अपने मोबाइल फोन में कमांड दे पाते हैं


ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Operating Systems) एक सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software) होता है यानी ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Operating Systems) आपके कंप्यूटर की जितनी भी आंतरिक गतिविधियां होती हैं उनको कंट्रोल करता है और यूजर को एक ऐसा इंटरफेस प्रदान करता है जिससे वह बड़ी आसानी से कंप्यूटर को ऑपरेट कर सके, ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर के रिसोर्सेज जैसे कंप्यूटर की मेमोरी, सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट, हार्ड डिस्क या के अन्य सॉफ्टवेयर को कंट्रोल करता है यह ऐसा पहला प्रोग्राम है जो कंप्यूटर के स्विच ऑन होने के बाद ROM से कंप्यूटर की मुख्य मेमोरी में लोड होता है यह प्रक्रिया बूटिंग (Booting) कहलाती है.






यूजर इंटरफेस का इतिहास (History of User Interface)
  • 1945 से 1968 तक बैच इंटरफ़ेस – इस समय कंप्यूटर का Power काफी कम था और यह काफी महंगे हुआ करते थे। User को कंप्यूटर काफी महंगा पड़ता था इस वजह से उस समय User Interface पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाता था। सॉफ्टवेयर को इस तरह रखा जाता था जिससे की वह प्रॉसेसर को सही से इस्तेमाल कर सके। (User Interface in Hindi) यूजर इंटरफ़ेस की इनपुट साइड जो होती है वह पंच कार्ड की होती है और एक तरह से उसे हम पेपर टेप भी बोल सकते हैं।
  • 1969 से लगभग 1995 तक कमांड लाइन यूजर इंटरफ़ेस – कमांड लाइन यूजर इंटरफ़ेस (Command Line Interface) में Batch Monitor को System Console से जोड़ा जाता है। यह Transaction Response देने का काम करता है जिससे की हमें जल्दी से परिणाम मिल सकें। इसमे जो सॉफ्टवेयर इस्तेमाल किए जाते हैं वह भी काफी अच्छी तरह के होते हैं जिससे की हमें काम करने में आसानी होती है।
  • 1995 से अब तक ग्राफिकल यूजर इंटरफ़ेस - Graphical User Interface यानि की GUI यह Interface का एक ऐसा प्रकार है जो की User को Electronic Device में Interface करने की अनुमति देता है ये Icon, Text, Mouse, Touchpad, Touchscreen, Game हो सकता है यानि की Input इन Devices और Graphics से दे सकते हैं.




Types of User Interface - यूजर इंटरफ़ेस के प्रकार 
  • कमांड लाइन इंटरफ़ेस (CLI)
इसमें कंप्यूटर को की-बोर्ड के माध्यम से कमांड टाइप करके इनपुट दिया जाता है और कंप्यूटर मॉनिटर पर आपको इसका आउटपुट दिखाई देता है.
  • जीयूआई (GUI)
जीयूआई (GUI) की फुलफार्म ग्राफिकल यूज़र इंटरफेस (Graphical User Interface) है जैसा कि इसके नाम में ही पता चलता है यह ऑपरेटिंग सिस्टम ग्राफिक्स पर आधारित होता है यानी आप माउस और की-बोर्ड के माध्यम से कंप्यूटर को इनपुट दे सकते हैं और वहां पर जो आपको इंटरफ़ेस दिया जाता है वह ग्राफिकल होता है, यहां पर सभी प्रकार के बटन होते हैं मेन्‍यू होते हैं, यह बहुत आसान इंटरफ़ेस होता है जिसको कोई भी यूजर बहुत आसानी ऑपरेट कर सकता है ग्राफिकल यूज़र इंटरफेस (Graphical User Interface) के आने के बाद ऑपरेटिंग सिस्टम में तेजी से विकास हुआ है.
  • अल्टरनेटिव यूजर इंटरफ़ेस -
यह User के ध्यान को केंद्रित करने का काम करता है और किस समय पर संदेश और वार्निंग देनी है उसका ध्यान रखता है।

  • वेब यूज़र इंटरफ़ेस

यह भी एक Graphical User Interface है जिसमें वेब पेज को इस तरह से डिजाइन किया जाता है कि वह इंटरनेट के माध्यम से जब किसी यूज़र के पास पहुंचे तो उसका आउटपुट बहुत बेहतरीन दिखाई दे आपके वेब पेज का लेआउट या इंटरफ़ेस आपकी वेबसाइट के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है
  • क्रोससिंग बेस्ड इंटरफ़ेस
यह ग्राफिकल यूजर इंटरफ़ेस होता है जिसका प्राथमिक काम सीमाओं को उलांघना होता है और अच्छे से सक्षम रूप से काम करना होता है।
  • डाइरैक्ट मेनिपुलेशन इंटरफ़ेस
 यह एक तरह का सामान्य यूजर इंटरफ़ेस होता है जो की उपयोग को वस्तुओं को मेनिपुलेट करने में मदद करता है जिससे के लोग प्रभावी रूप से काम कर सकें।

  • टच स्क्रीन (Touchscreen) इंटरफेस

Touchscreen टच स्क्रीन इंटरफेस मोबाइल फोन टैबलेट और एटीएम मशीन में होते हैं जहां पर आप स्क्रीन को टच करके इनपुट देते हैं और मशीन द्वारा आपको एक निश्चित आउटपुट दिया जाता है

  • हार्डवेयर यूजर इंटरफ़ेस

आमतौर पर घर में इस्तेमाल होने वाले होम एप्लायंसेज जैसे वाशिंग मशीन, माइक्रोवेव आदि में आप बटनो के माध्यम से टच स्क्रीन के माध्यम से स्विच के माध्यम से हार्डवेयर को जो भी कमांड देते हैं वह हार्डवेयर यूजर इंटरफेस के माध्यम से दी जाती है और यह आपके किसी भी मशीन चलाने को सरल बनाती है.

No comments:

Post a Comment